Book Dedicated To

समर्पण


श्रद्धेय गुरुदेव

संत शिरोमणी आचार्य श्री श्री विद्या सागर जी महाराज को समर्पित,

जो मेरे प्रेरणा स्त्रोत रहे और जिन्होंने मुझे यहाँ तक पहुचाया ।

उनके चरणों में शत-शत नमन !